National

आस्था के नाम पर हिंसा बर्दाश्त नहीं की जाएगी : मोदी

 

नई दिल्ली| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि आस्था के नाम पर हिंसा बर्दाश्त नहीं की जाएगी और दोषियों को निश्चित तौर पर सजा दी जाएगी। मोदी ने यह टिप्पणी अपने रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में कही। यह टिप्पणी हरियाणा में डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को दुष्कर्म का दोषी करार दिए जाने के बाद हुई हिंसा के दो दिन बाद आई है। इस हिंसा में 36 लोगों की मौत हो गई।

मोदी ने किसी राज्य का नाम लिए बगैर कहा कि जब देश के एक हिस्से से हिंसा की खबर आती है, तो चिंतित होना स्वाभाविक है।

मोदी ने कहा, “मैं अपने देशवासियों को भरोसा देना चाहता हूं कि जो लोग अपने हाथों में कानून लेंगे और हिंसा के रास्ते पर चलेंगे, चाहे वह कोई व्यक्ति हो या समूह, उन्हें न तो यह देश न ही कोई सरकार बर्दाश्त करेगी। हर एक व्यक्ति कानून से बंधा हुआ है, कानून जवाबदेही तय करेगा और दोषी को निश्चित तौर पर दंडित किया जाएगा।”

प्रधानमंत्री ने अपने स्वतंत्रता दिवस के भाषण का भी जिक्र किया, जिसमें उन्होंने भीड़ द्वारा होने वाली हिंसा में शामिल लोगों को चेतावनी दी थी।

उन्होंने कहा, “हम अपने बचपन से सुनते व कहते रहे हैं कि अहिसा परमो धर्मा। मैंने लाल किले की प्राचीर से अपने संबोधन में कहा कि आस्था के नाम पर हिंसा बर्दाश्त नहीं होगी, चाहे यह सांप्रदायिक विश्वास या राजनीतिक विचारधारा के तहत हो, या फिर यह किसी व्यक्ति या रीति-रिवाज या परंपराओं के प्रति निष्ठा से उपजी हो। किसी को भी किसी भी विश्वास के आधार पर कानून को अपने हाथ में लेने का अधिकार नहीं है।”

डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को शुक्रवार को पंजाब व हरियाण उच्च न्यायालय द्वारा दुष्कर्म का दोषी करार दिए जाने के बाद डेरा समर्थकों की भीड़ के तोड़फोड़ के दौरान पुलिस की गोलीबारी में कम से कम 30 लोगों की मौत हो गई थी। सिरसा में छह लोगों की मौत हो गई। सिरसा में डेरा प्रमुख का मुख्यालय है।

मोदी ने कहा कि अहिंसा व परस्पर सम्मान के मूल्य भारतीयों में सदियों से समाहित हैं।

मोदी ने कहा, भारत भगवान बुद्ध, महात्मा गांधी और सरदार पटेल की धरती है जिन्होंने देश की एकता के लिए सब कुछ त्याग दिया। सदियों से हमारे पूर्वजों ने सामुदायिक मूल्य, अहिंसा व परस्पर सम्मान को आत्मसात किया है, यह हममे अन्तर्निहित है।”

मोदी ने कहा कि एक तरफ देश में पर्व का माहौल है और दूसरी तरफ हिंसा की खबर है।

उन्होंने कहा, “हमें डॉक्टर भीमराव अंबेडकर द्वारा दिए गए संविधान में हर व्यक्ति के लिए न्याय सुनिश्चित करने का प्रावधान है।”

–आईएएनएस

Tags
Show More
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker