Health

‘इंसेक्ट मिल्क’ बेच रही दक्षिण अफ्रीकी कंपनी

जोहांसबर्ग, 28 मई (आईएएनएस)| दक्षिण अफ्रीका की एक कंपनी एक विशेष प्रकार का दूध बेच रही है, जो खेती वाले कीटों से बना है। कंपनी ने इसे ‘एंटोमिल्क’ का नाम दिया है। कंपनी इसे अगला सुपरफूड बता रही है। फर्म गॉरमेट ग्रब ने अपनी वेबसाइट पर कहा है, “एंटोमिल्क की सोच टिकाऊ, प्रकृति के अनुकूल, पौष्टिक, लैक्टोज मुक्त, स्वादिष्ट, भविष्य के डेयरी विकल्प के रूप में की जा सकती है।”

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, कंपनी के अनुसार एंटोमिल्क का सबसे महत्वपूर्ण लाभ यह है कि इसमें प्रोटीन की उच्च मात्र है और इसमें लौह, जिंक व कैल्शियम जैसे खनिज हैं।

एंटोमिल्क तथाकथित ‘कॉकरोच मिल्क (तिलचट्टा दूध)’ के शुरुआत के दो साल बाद बाजार में आया है। कॉकरोच मिल्क डिप्लोपटेरा पुक्टाटा से बना हुआ है।

यह विशेष प्रकार का तिलचट्टा आमतौर पर हवाई जैसे प्रशांत द्वीपों पर पाया जाता है। यह एकमात्र प्रजाति है, जो अंडे देने के बजाय बच्चों को जन्म देती है।

इनका दूध प्रोटीन, वसा व शुगर का क्रिस्टल होता है, जो तिलचट्टे के बच्चों की वृद्धि के लिए महत्वपूर्ण है।

साल 2016 में भारतीय शोधकर्ताओं द्वारा किए गए एक शोध में तिलचट्टे के दूध में समान द्रव्यमान के गाय के दूध की तुलना में तीन गुना से ज्यादा ऊर्जा होने का अनुमान लगाया गया था।

हालांकि, वैज्ञानिकों ने सुपरमार्केट में जल्द तिलचट्टे के दूध आने की उम्मीद नहीं की थी।

इसके अलावा, इसके इस्तेमाल में सुरक्षित होने पर भी अभी स्थिति साफ नहीं है।

–आईएएनएस

Show More
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker