National

कृषि संकट को हल करने के लिए प्रभावी योजना बनाई जाए: लोक गठबंधन पार्टी

नई दिल्ली: लोक गठबंधन पार्टी (एलजीपी) ने आज कहा कि पूरे देश के किसानों को दिल्ली में 29, 30 नवंबर को दो दिवसीय प्रदर्शन करने के लिए मजबूर होना पड़ा क्योंकि एनडीए सरकार के कई वादों के बावजूद कृषि संकट को हल करने में विफल रही है।

एलजीपी ने कहा कि कल दिल्ली में इकट्ठे होने वाले किसान समूह अपनी मांगों पर चर्चा करने और उन्हें हल करने के लिए विधायी उपायों के लिए संसद के विशेष सत्र की मांग कर रहे हैं।

पार्टी के प्रवक्ता ने बुधवार को कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि कृषि समुदाय संकट की घड़ी से गुज़र रहा है और लगातार केंद्र सरकारों ने उन्हें हल करने के लिए केवल टुकड़े टुकड़े में उपाय करने की कोशिश की है। अब किसान कृषि कानूनों के माध्यम से उच्चतर एमएसपी के लिए लाभकारी न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी देने और  किसानों को ऋण ग्रस्तता छूट देने के अधिकार पर दो कानूनों की माँग कर रहे  है।

प्रवक्ता ने कहा कि ये मांगें नई नहीं हैं और समुदाय लंबे समय से इसकी मांग कर रहा है। राजनीतिक दलों के लिए यह एक राजनीतिक हथियार भी बन गया है क्योंकि कांग्रेस ने चालू विधानसभा चुनावों में किसानों को दो लाख रुपये तक का कर्ज छूट का वादा किया है, प्रवक्ता ने कहा कि भाजपा ने भी अतीत में ऐसा किया था। इसी प्रकार एनडीए सरकार ने एमएसपी को बढ़ाकर किसानों की कृषि आय की दोगुनी घोषणा की थी, लेकिन यह सकारात्मक नतीजे हासिल करने में भी असफल रहा है।

प्रवक्ता ने कहा कि अधिकांश राजनीतिक दल चुनाव के दौरान इस तरह के लोकप्रिय वादों का सहारा लेते रहे हैं लेकिन कृषि में व्यवस्थित ढंग से संकट को हल करने के लिए शायद ही कोई विचार-विमर्श किया गया है।

एमएसपी के माध्यम से आय को दोगुना करने करने के प्रयास के बारे में प्रवक्ता ने कहा कि यह एक संकुचित दृष्टिकोण है, क्योंकि इसने पूरे कृषि क्षेत्र में बढ़ते संकट को संबोधित करने में बहुत सीमित भूमिका निभाई है। प्रवक्ता ने कहा कि कृषि क्षेत्र का संकट गहरा है जिसे इस तरह के सरकार के निर्णयों से हल नहीं किया जा सकता है।

प्रवक्ता ने कहा कि एमएसपी के माध्यम से देश के अनाज उत्पादन का केवल एक चौथाई हिस्सा खरीदा गया है और सालों से खरीद केंद्रों में कुप्रबंधन ने दर्शाया है कि किसानों ने इन सरकारी नियंत्रित स्थानों पर बाजार को पसंद किया, जहां भी व्यापक अनियमितताएं व्याप्त हैं। लंबे दावों के बावजूद केंद्रीय और राज्य सरकारों ने इन केंद्रों में सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए कभी भी गम्भीर कोशिश नहीं किया।

प्रवक्ता ने कहा, जबकि एलजीपी किसानों की समस्याओं के स्थायी समाधान के बारे में चिंतित है, अन्य राजनीतिक दल केवल राजनीति और अल्पकालिक उपायों में रुचि रखते हैं, जो संकट को कम नहीं करेंगे। पार्टी ने कहा कि कुल कृषि आय बढ़ाने और ग्रामीण क्षेत्र में गैर-कृषि नौकरियों के लिए मार्ग प्रशस्त करने के लिए नीतियों को तैयार करने की तत्काल आवश्यकता थी। यह शहरो में प्रवासन रोकने में भी मदद करेगा। पार्टी ने कहा कि प्राथमिकता के आधार पर कृषि अर्थव्यवस्था में पैदा हो गई संरचनात्मक बाधाओं को हटाया जाना चाहिए।

Show More
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker