PoliticsWorld

ट्रंप के नेतृत्व मे अमेरिका बनेगा भारत का अहम साझेदार

ब्रह्मानंद राजपूत,

डोनल्ड ट्रंप अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति होंगे। डेमोक्रैट उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन को पटकनी देकर रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप ने अपनी ऐतिहासिक जीत सुनिश्चित की है। परिणामों में डोनाल्ड ट्रंप ने बड़े अंतर से हिलरी को मात दी है। विभिन्न विवादों में घिरे रहे रिपब्लिकन कैंडिडेट डोनाल्ड ट्रंप की जीत ने सभी पोल सर्वे को गलत साबित कर दिया। क्योंकि अधिकतर पोल सर्वे उनके खिलाफ थे। डोनाल्ड ट्रंप ने जीतकर अमेरिका और भारतीय अमेरिकियों के बीच अपनी लोकप्रतिया साबित की है।

डोनाल्ड ट्रंप के पक्ष में पड़े वोट लोगों में सत्ता विरोधी लहर की ओर संकेत करते हैं, जो वास्तव में बदलाव के मूड में थे। जीत के बाद ट्रंप ने अपने समर्थकों को आभार जताया। हिलेरी क्लिंटन ने भी राजनीति से ऊपर उठकर डोनल्ड ट्रंप को फोन पर बधाई देकर आपसी समरसता का परिचय दिया। इसके जवाब में डोनल्ड ट्रंप ने भी हिलेरी क्लिंटन की तारीफ की। हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी डोनाल्ड ट्रंप को अमेरीका का राष्ट्रपति चुने जाने पर बधाई दी है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने बयान में कहा, अपने प्रचार अभियान के दौरान आपने (डोनल्ड ट्रम्प) भारत के प्रति जो मित्रता जताई वह सराहनीय है। मोदी ने गर्मजोशी दिखाते हुए कहा कि भारत-अमेरिका द्विपक्षीय संबंधों को एक नई ऊँचाई पर ले जाने को आपके (डोनल्ड ट्रम्प) साथ काम करने लिए हम तत्पर हैं। इससे लगता है कि आने वाले समय में अमेरिका के साथ भारत के सम्बन्ध नए आयाम स्थापित करेंगे।

70 वर्षीय डोनल्ड ट्रम्प ने भी अपने चुनाव अभियान के समय भारतीय मूल के मतदाताओं को लुभाने की कोई कोर कसर नहीं छोड़ी थी। इसका लाभ चुनावों में डोनल्ड ट्रम्प को पूर्णरुप से मिला है। डोनल्ड ट्रम्प ने अपने चुनाव अभियान के दौरान कहा था कि अगर वे राष्ट्रपति बने तो भारतीय और हिंदू समुदाय व्हाइट हाउस के सच्चे दोस्त होंगे। डोनल्ड ट्रम्प ने भारत के प्रधानमंत्री के बारे में भी कहा था कि वह प्रधानमंत्री मोदी के साथ काम करने के लिए तैयार हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लोकप्रिय और महान शख्स बताया था और मोदी की नीतियों की तारीफ भी की थी। अब आने वाले समय में देखने वाला होगा कि मोदी के नेतृत्व में भारत के साथ डोनल्ड ट्रम्प के सम्बन्ध किन ऊंचाइयों पर पहुँचते हैं।

डोनल्ड ट्रम्प ने भारतीय मूल के मतदाताओं का दिल जीतने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मशहूर नारे ाअबकी बार, मोदी सरकारस की तर्ज पर अपना नारा बनाया, ‘अबकी बार, ट्रम्प सरकार’ क्योंकि डोनल्ड ट्रम्प को भी पता था कि नरेंद्र मोदी भारतीय अप्रवासियों खासकर हिंदुओं के बीच बेहद लोकप्रिय हैं।

डोनल्ड ट्रम्प ने अपने चुनाव अभियान के दौरान कहा था कि अगर वे राष्ट्रपति बनते हैं तो ‘भारत के साथ अमेरिका का व्यापार बढ़ाएंगे’। उन्होंने ‘भारत’ को दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र और अमेरिका का सबसे बड़ा सहयोगी बताया था। उन्होंने कहा था कि ट्रंप सरकार के तहत अमेरिका और भारत बेहतर मित्र बनने जा रहे हैं और आने वाले समय में अमेरिका और भारत पक्के दोस्त होंगे। उन्होंने अपने आप को मुक्त व्यापार का पक्षधर बताया था। उन्होंने भारत के साथ अपने अभूतपूर्व भविष्य की कामना करते हुए कहा था कि हम भारत के साथ बहुत व्यापार करेंगे। इससे अमेरिका के साथ भारत के व्यापार के क्षेत्र में भी संभावनाएं प्रबल होंगी। इससे लगता है कि ट्रम्प भारत को चीन को रोकने के लिए अपना अहम साझेदार बनाएंगे।

Tags
Show More
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker