दिल्ली छावनी बोर्ड के 7 स्कूलों में पुस्तकालयों की शुरुआत

दिल्ली छावनी बोर्ड के 7 स्कूलों में पुस्तकालयों की शुरुआत

नई दिल्ली : एंजेलिक इंटरनेशनल लिमिटेड के सीएसआर प्रभाग. एंजेलिक फाउंडेशन ने गुरुवार दिल्ली कैंटोनमेंट बोर्ड की ओर से संचालित सात स्कूलों में एंजेलिक पुस्तकालयों की शुरुआत की। सभी एनडीएमसी स्कूलों में 18 पुस्तकालयों की शुरुआत के बाद से यह एक महत्वपूर्ण पहल है। नई दिल्ली संसदीय निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा सदस्य श्रीमती मिनाक्षी लेखी ने इस अनूठी सीएसआर पहल का उद्घाटन किया।

सरदार वल्लभभाई पटेल सीबी सीनियर सेकेंडरी स्कूल में आयोजित इस समारोह में एंजेलिक इंटरनेशनल लिमिटेड की सीएसआर प्रमुख श्रीमती जयश्री गोयल भी उपस्थित हुई।

समारोह में दिल्ली कैंटोनमेंट बोर्ड के कर्मचारियों एवं छात्रों के अलावा, विभिन्न देशों के बच्चे भी उपस्थित थे। इस पहल के जरिए विभिन्न देशों के छात्रों को अन्य देशों की संस्कृतियों को जानने तथा एक-दूसरे से परिचित होने का मौका मिलेगा।

इस सी.एस.आर पहल के तहत जिन स्कूलों में एंजेलिक पुस्तकालयों की शुरुआत हो रही है, उनमें डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम सीबी सीनियर सेकेंडरी स्कूल, सरदार वल्लभभाई पटेल सीबी सीनियर सेकेंडरी स्कूल, मदर टेरेसा सीबी सीनियर सेकेंडरी स्कूल, श्रीमती इंदिरा गांधी सीबी सीनियर सेकेंडरी स्कूल, डॉ बीआर अंबेडकर सीबी सीनियर सेकेंडरी स्कूल, महात्मा ज्योतिबा फुले सीबी सीनियर सेकेंडरी स्कूल और सिल्वर ओक सीबी मॉडल स्कूल शामिल हैं।

कार्यक्रम में लोकसभा सासंद मीनाक्षी लेखी ने कहा, “जीवन भर मुझे पुस्तकें पढ़ने की खास दिलचस्पी रही है। सभी सफल लोग पुस्कतें पढ़ते हैं। यही कारण है कि मैंने एंजेलिक इंटरनेशनल की सुश्री जयश्री गोयल से एनडीएमसी स्कूलों में ऐसे पुस्तकालयों की पहचान करने में मदद करने का अनुरोध किया ताकि हम बच्चों में बहुत ही नवजात उम्र से ही पढ़ने की लगन पैदा कर सकें।”

एंजेलिक फाउंडेशन की सीएसआर प्रमुख श्रीमती जयश्री गोयल ने अपने संबोधन में कहा, “सीखने का सबसे अच्छा तरीका पढ़ना है। हम मानते हैं कि बच्चे पढ़ना पसंद करते है। बच्चे वैसी पुस्तकों को पढ़ना चाहते हैं, जो उनकी साक्षरता के स्तर से मेल खाती है और जिनमें आकर्षक रंगीन चित्र भी हों। इन पुस्तकों को सुखद सहज वातावरण में पढ़ना आनंददायक है। हम यह सुनिश्चित करेंगे कि बच्चों को ज्ञानवर्धक एवं रोचक पढ़ने की सुविधा मिले।

–आईएएनएस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *