Politics

पन्नीरसेल्वम गुट में खुशी, डीएमके व कांग्रेस ने फैसले का स्वागत किया

 

चेन्नई। सर्वोच्च न्यायालय द्वारा आय से अधिक संपत्ति मामले में मंगलवार को ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (एआईएडीएमके) की महासचिव वी.के.शशिकला तथा उनके तीन रिश्तेदारों को दोषी ठहराए जाने के बाद कार्यकारी मुख्यमंत्री ओ.पन्नीरसेल्वम के नेतृत्व वाले पार्टी के दूसरे गुट में हर्ष का माहौल है। द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) तथा कांग्रेस जैसी विपक्षी पार्टियों ने सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को ऐतिहासिक करार दिया है।

 

एआईएडीएमके के पूर्व सांसद पलानीस्वामी ने आईएएनएस से कहा, “न्याय हो चुका है। हम प्रसन्न हैं।”

 

पलानीस्वामी ने कहा कि शशिकला का समर्थन करने वाले विधायक अब अपनी वफादारी पन्नीरसेल्वम के प्रति दर्शाएंगे।

 

उन्होंने कहा, “अगर उनकी योजना किसी और को प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में पेश करने की है, तो वह सफल नहीं होगी।”

 

यहां संवाददाताओं से बातचीत में डीएमके के कार्यकारी अध्यक्ष एम.के.स्टालिन ने कहा, “न्याय बरकरार रहा। अब तमिलनाडु के राज्यपाल को राज्य में स्थिर सरकार के लिए कदम उठाने चाहिए।”

 

तमिलनाडु में कांग्रेस प्रवक्ता गोपन्ना ने आईएएनएस से कहा, “यह ऐतिहासिक फैसला है। 20 वर्षो के संघर्ष के बाद न्याय हुआ।”

 

सर्वोच्च न्यायालय के फैसले पर प्रसन्नता जताते हुए द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) के पूर्व सांसद तमाराई सेल्वन ने आईएएनएस से कहा, “फैसला शशिकला के खिलाफ जाने की संभावना थी, क्योंकि कर्नाटक उच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति कुमारास्वामी का मुख्यमंत्री जयललिलता तथा अन्य को दोषमुक्त करने का फैसला विसंगतियों से भरा था।”

 

उल्लेखनीय है कि सर्वोच्च न्यायालय की एक खंडपीठ ने शशिकला को निचली अदालत द्वारा दोषी ठहराने के फैसले को बरकरार रखा और उन्हें दोषमुक्त करने के कर्नाटक उच्च न्यायालय के फैसले को खारिज कर दिया।

 

इस बीच, उस बीच रिसॉर्ट के निकट सुरक्षा पुख्ता कर दी गई है, जहां शशिकला का समर्थन करने वाले एआईएडीएमके के समर्थक बीते कई दिनों से ठहरे हुए हैं।

 

शशिकला का समर्थन करते हुए एआईएडीएमके ने ट्वीट किया, “जब भी अम्मा (जयललिता) मुसीबत में आईं, शशिकला ने उसे अपने ऊपर ले लिया। वह एक बार फिर ऐसा ही कर रही हैं।”

–आईएएनएस

Tags
Show More
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker