बर्फबारी से शिमला, मनाली का अन्य इलाकों से संपर्क टूटा, बिजली आपूर्ति भी बाधित

बर्फबारी से शिमला, मनाली का अन्य इलाकों से संपर्क टूटा, बिजली आपूर्ति भी बाधित

Shimla: The snow covered mall road in Shimla on Jan 7, 2017. (Photo: IANS)

 

शिमला। हिमाचल प्रदेश के पर्यटन स्थलों शिमला, मनाली और डलहौजी का रातभर हुई भारी बर्फबारी के बाद शनिवार को अन्य इलाकों से संपर्क टूट गया है। शिमला और मनाली में पेड़ गिरने के कारण बिजली की लाइनें क्षतिग्रस्त हो गईं, जिसके कारण बिजली आपूर्ति बाधित हो गई।

 

एक अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि बर्फबारी के कारण शिमला से करीब 15 किलोमीटर दूर शोगी में यातायात अवरुद्ध हो गया है। मौसम विभाग के अनुसार शिमला के मॉल रोड, रिज, यूएस क्लब और जाखू पहाड़ियों समेत कई इलाकों में एक फुट से ज्यादा बर्फबारी हुई और सर्द मौसम के कारण नलों में पानी जम गया है।पुलिस महानिदेशक सोमेश गोयल ने बताया कि कई दशकों के बाद शिमला में इतनी ज्यादा बर्फबारी हुई है।

 

गोयल ने अपने फेसबुक अकाउंट पर लिखा, “खराब बात यह है कि बिजली नहीं है। लेकिन कोई फिक्र नहीं! कैमरा लेकर बाहर घूमने जा रहा हूं।” शिमला में जहां न्यूनतम तापमान 0.2 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया है, वही मनाली में न्यूनतम तापमान शून्य से 0.8 डिग्री सेल्सियस हो गया। धर्मशाला के ऊपरी हिस्से मैक्लोडगंज में भी भारी बर्फबारी हुई। मैक्लोडगंज के पीछे स्थित हिमालय की धौलाधार पर्वत श्रृंखला पर भी भारी बर्फबारी हुई है।

 

वहीं, धर्मशाला, पालमपुर, सोलन, नाहन, बिलासपुर, उना, हमीरपुर और मंडी समेत राज्य के कई निचले इलाकों में बारिश हुई। एक सरकारी प्रवक्ता ने कहा कि बर्फबारी के कारण शिमला और किन्नौर जिलों की अंदरूनी सड़कों का अन्य इलाकों से संपर्क टूट गया है।

 

यहां तक कि नारकंडा, जुब्बल, कोटखई, खरापठार और चोपाल समेत कई शहरों में यातायात अवरुद्ध हो गए। कुल्लू जिले के बंजर में पूरे प्रदेश में सर्वाधिक 73 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। अधिकारियों ने बर्फबारी की संभावना को देखते हुए पर्यटकों को दूर दराज के इलाकों में न जाने की सलाह दी है।

 

मौसम विभाग के अनुमान के अनुसार रविवार तक पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय रहेगा, जिसके कारण और इस दौरान भारी बर्फबारी की संभावना है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि रविवार के बाद लगभग पूरे प्रदेश में 13 जनवरी तक मौसम के सूखा रहने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि अगले दो-तीन दिनों में प्रदेश में न्यूनतम तापमान में गिरावट आएगी।

 

अपने परिजनों के साथ दिल्ली से शिमला घूमने आईं नेहा गांधी ने कहा, “शुक्रवार को धूप निकली थी और हमें इतनी तेजी से मौसम के बदलने की उम्मीद नहीं थी। आज हमने एकदूसरे पर बर्फ फेंके और खूब मस्ती की।” पर्यटन उद्योग के प्रतिनिधियों ने मौसम में आए इस बदलाव पर खुशी व्यक्त की है।

 

ओबेराय होटल समूह के लायजन अधिकारी डी. पी. भाटिया ने कहा, “अगले कुछ दिनों में हमें पर्यटकों की संख्य बढ़ने की उम्मीद है।”

(आईएएनएस)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *