National

शिमला, मनाली, डलहौजी में पर्यटक फंसे

 

शिमला। लोकप्रिय पर्यटन स्थलों शिमला, मनाली, चंबा और डलहौजी का रविवार को लगातार दूसरे दिन भी हिमाचल प्रदेश के अन्य हिस्सों से संपर्क टूटा रहा, जिसके कारण यात्री फंसे हुए हैं। आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति बाधित है और यातायात प्रभावित होने के कारण रविवार को भी पर्यटक फंसे हुए हैं।शुक्रवार रात से ही शिमला और मनाली में बिजली की आपूर्ति बाधित है और पानी के पाइप टूट जाने के कारण पानी की आपूर्ति भी नहीं हो पा रही।

 

एक सरकारी अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि मनाली से लगभग 40 किलोमीटर दूर कुल्लू के पास चंडीगढ़-मनाली राष्ट्रीय राजमार्ग पर बर्फ की मोटी चादर बिछी होने के कारण यातायात बंद है।

 

शिमला में 53 सेंटीमीटर बर्फबारी हुई है। रविवार को यहां का न्यूनतम तापमान शून्य से 0.4 डिग्री सेल्सियस कम रहा। शिमला से करीब 15 किलोमीटर दूर शोगी के पास भी यातायात अवरुद्ध रहा। वहीं, कालका-शिमला लाइन पर रेल यातायात भी बाधित है।

 

अधिकारी ने बताया कि किन्नौर जिला और शिमला के नारकंडा, जुब्बल, खड़ापठार, रोहरु और चोपाल समेत कई शहरों का भी भारी भर्फबारी के कारण संपर्क टूट गया है।

 

एक सरकारी प्रवक्ता ने आईएएनएस को बताया कि राज्य सरकार द्वारा संचालित कोई भी बस शिमला के ऊपरी इलाकों में नहीं चलाई जा रही क्योंकि कुफरी और नारकंडा के बीच बड़ी संख्या में गाड़ियां फंसी हुई हैं। अधिकारी के मुताबिक, राष्ट्रीय राजमार्गो और प्रमुख सड़कों से बर्फ हटाने का काम जारी है।

 

पठानकोट-चंबा राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित बानीखेत के पास हुई भारी बर्फबारी के चलते खूबसूरत डलहौजी और चंबा का भी देश के अन्य हिस्सों से संपर्क टूटा हुआ है।

 

धर्मशाला, पालमपुर, सोलन, ऊना, हमीरपुर और मंडी जैसे निचले इलाकों में बारिश हो के कारण तापमान में और गिरावट दर्ज हुई है।

 

एक मौसम विज्ञानी के मुताबिक, “किन्नौर, लाहौल एवं स्पीति, शिमला, कुल्लू और चंबा जिलों समेत पूरे क्षेत्र में पिछले 24 घंटों में भारी बर्फबारी हुई है।” भूस्खलन होने की आशंका के चलते सरकार ने पर्यटकों को ऊंची पहाड़ियों पर न जाने की चेतावनी दी है।

 

मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि पश्चिमी विक्षोभ सोमवार से वापस हटना शुरू हो जाएगा।

(आईएएनएस)

Tags
Show More
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker