Entertainment

Film Review: एक ख़ास वर्ग के दर्शकों को ही पसंद आएगी “पार्टीशन 1947”

 

एस.पी. चोपड़ा, 

# भारत-पाक बंटवारे पर बनी फिल्म यानी विभाजन की कहानी.. उस लकीर की कहानी जिसने दो मुल्कों को आपस  में बांट दिया। एक भारत बन गया और दूसरा पाकिस्तान।

गुरिदंर चढ्ढा ने फिल्म की कहानी लिखने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। फिल्म की कहानी भारत के आखिरी वायसरॉय लॉर्ड माउंटबैटन पर आधारित है। माउंटबैटन को भारत को आजादी दिलाने के लिए बुलाया जाता है।

फिल्म में आलिया यानी हुमा कुरैशी और मनीष दयाल यानि जीत के बीच प्यार को दिखाया गया है। फिल्म में दिखाया गया है कि लॉर्ड माउंटबैटन और उनकी पत्नी लेडी एडविना के मन में भारत के लोगों के प्रति कितनी संवेदना है।

भारत के आखिरी वाइसरॉय के रोल में हफ बॉनेविल की एक्टिंग से बेहतरीन हैं। उनकी पत्नी के किरदार में गिलियन एंडरसन का रोल भी अच्छा है।हिंदू लड़के जीत के किरदार में मनीष दयाल और मुसलमान लड़की आलिया की भूमिका में हुमा कुरैशी ने भी शाशदार काम किया है।

फिल्म का आकर्षण ओम पुरी को माना जा रहा था। लेकिन डायरेक्टर साहिबा न उन पर ज्यादा फोकस नहीं किया। गांधी, नेहरु और जिन्ना के किरदार में भी कलाकारों ने भी ठीक काम किया है।

इन सबसे हटकर फिल्म में कुछ देखना या सुनना चाहते हैं तो फिल्म के डायलॉग्स जरूर सुने.. ये डायलॉग्स हमें फिल्म देखने के लिए  प्रेरित करते हैं. ‘हम हिंदुस्तान को उसकी आजादी लौटाने आए थे, न कि उसके टुकड़े करने’…और ‘नए मुल्क अमन में पैदा नहीं होते’…

”पार्टीशन 1947” एक अच्छी फिल्म है। लेकिन एक ख़ास वर्ग के दर्शकों को ही पसंद आएगी। इसलिए अगर आपको देश भक्ति की फिल्में पसंद है तो एक बार आप ये फिल्म देख सकते हैं।

#स्टारकास्ट: हुमा कुरैशी, मनीष दयाल, ओम पुरी, माइकल गैम्बन, जिलियन एंडरसन और ह्यू बोनिविल।

#डायरेक्टर: गुरिंदर चड्ढा

#रेटिंग: 3/5

Tags
Show More
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker